गुरुवार, 4 नवंबर 2010

ज्योति पर्व मंगलमय हो

खिल गई मन के उपवन की नन्ही कली ।
जगमगाने लगी हर सड़क हर गली ।
थे प्रतीक्षा मेँ पलकेँ बिछाए हुए ,
आ गई ले के उल्लास दीपावली ।
समस्त पाठकोँ , शुभचिन्तकोँ , मित्रोँ , परिजनोँ , पुरजनोँ और देशवासियोँ को सपरिवार ज्योति पर्व की हार्दिक शुभ - कामनाएँ । हम सभी के जीवन मेँ यह पर्व सुख , समृद्धि , ऐश्वर्य , प्रकाश और उल्लास लेकर आए , परमात्मा से यही मंगल - कामना है ।
- रमेश दीक्षित , टिमरनी

2 टिप्‍पणियां:

संगीता पुरी ने कहा…

दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
जीवन में लाए खुशियां अपार।
लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

Udan Tashtari ने कहा…

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

-समीर लाल 'समीर'